सिल्क्स
रेशम उत्पादन सूचना संयोजन एवं
जानकारी प्रणाली

सिल्क्स केंद्रीय रेशम बोर्ड, कपड़ा मंत्रालय, भारत सरकार, बैंगलोर
मयूरभंज, उड़ीसा

शहतूत के रेशम कीटों का पालन

पालन घर (200-250डीएफएलएस के लिए)
  • 200-250 डीएफएलएस को समायोजित करने के लिए एक ऊंचे और छायादार स्थान पर 50 फीट x 20 फीट x10 फुट आकार का पालन घर बनाएं।
  • पालन घर के आसपास 3 फीट का बरामदा रखें।
  • पालन घर के अंदर हवा के मुक्त संचलन के लिए पर्याप्त खिड़कियां और झरोखे बनवाएं।
  • उजी मक्खियों के प्रवेश को प्रतिबंधित करने के लिए खिड़कियों और झरोखों को नायलॉन के जाल से ढकें।
silks
सिफारिश की गई संकर प्रजातियाँ
  • मल्टीवोल्टाइनः: पीएम × सीएसआर, एल14 × सीएसआर 2
  • बाइवोल्टाइन: सीएसआर 2 × सीएसआर 4, एफसी1 × एफसी 2 (दोहरी संकर प्रजाति)

सिफारिश किए गए कीटाणुनाशक से पालन घर और उपकरणों को कीटाणुरहित करें

पालन के उपकरण

बिजली का स्प्रेयर, पालन स्टैंड, पालन ट्रे, फोम पैड, मोम पुता पैराफिन कागज, नायलॉन के जाल, पत्ते रखने के लिए टोकरी, चटाई बैग, रोटरी या बांस के माउंटेज/या नेट्राइक।

ऊष्मायन और ब्रशिंग
  • एक ट्रे पर रखे गए एक पैराफिन कागज पर अंडों को एक परत में फैला दें।
  • एक दूसरे पैराफिन कागज से अंडों को ढक दें।
  • कमरे का तापमान 25-26 डिग्री सेल्सियस और सापेक्ष आर्द्रता 80% पर बनाए रखें।
  • जब नीला सिरा प्रकट होता है, अंडों को एक टिशू पेपर में (25-50 डीएफएलएस प्रत्येक) लपेटें और अंडों को 1-2 दिनों के लिए काले रंग से रंगे हुए बक्से में रख दें या काले कपड़े या कागज से ढक कर रखें।
  • अगले दिन अंडों को हल्की धूप या छाया में रखें।
silks
अंडे से निकले नए कीड़े की ब्रशिंग
  • अंडे से निकले नए कीड़े को एक नरम ब्रश या पंख से सावधानीपूर्वक एक पालन ट्रे पर रखे एक पैराफिन पुते कागज पर स्थानांतरित करें।
  • कीड़ों को 0.5-1 सेमी आकार में कटी हुई कोमल पत्तियों (शाखा के शीर्ष से तीसरी और चौथी पत्ती) खिलाएं।
चॉकी पालन
  • ट्रे में कीड़ों को समान रूप से वितरित करें।
  • रेशमकीट को पौष्टिक और रसीले पत्ते खिलाएं।
  • silks
  • पहले चरण के दौरान कोमल पत्तियों के 0.5-2 सेमी के टुकड़े काट कर 3-4 बार खिलाएं।
  • पहले इनस्टार में कीड़े के लिए 5किलो/100 डीएफएलएस और दूसरे इनस्टार में 18 किलो/100 डीएफएलएस की दर से पत्तियां उपलब्ध कराएं।
  • दूसरे चरण के दौरान, पत्तियों को 2-4 वर्ग सेमी के आकार में काटें और 3-4 बार खिलाएं।
  • तापमान 27-28 डिग्री सेल्सियस और सापेक्ष आर्द्रता 80-90% पर बनाए रखें।
  • प्रत्येक दिन दूसरी बार खिलाने से पहले, पिछली बार खिलाने में उपयोग की गई पत्तियों को सूखने लिए बिस्तर में फैला दें।
  • पहली और दूसरी बार केंचुली उतरने के समय एक बार और 3 चरण के दौरान प्रतिदिन कपास के 0.5 वर्ग सेमी मेस आकार के जाल से बिस्तर की सफाई करना सुनिश्चित करें।
  • केंचुली उतरने से पहले बिस्तर मोटाई कम करें।
  • When 97% worms settle for moulting, stop feeding & apply slaked lime on the body of the worms.
silks
अधिक उम्र में पालन
  • दूसरी केंचुली के बाद रेशम के कीड़ों को कोंपलों के रैक में स्थानांतरित कर दें।
  • कोंपलों के पालन रैक लोहे, लकड़ी या बांस के बने होते हैं।
  • इसमें 3 स्तरों का होना आदर्श होता है।
  • रैक की चौड़ाई 5 फीट से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • निचला स्तर जमीन की सतह से 1 फुट ऊपर होना चाहिए।
  • दो स्तरों के बीच न्यूनतम 2 फुट का फासला होना चाहिए।
  • लार्वा को खिलाने के लिए कोंपलों को 50-60 दिनों का होना चाहिए।
  • दिन में 2 या 3 बार खिलाने की सिफारिश की गई है।
  • बिस्तर की सफाई 5वें इनस्टार के चौथे दिन पर केवल एक बार की जाती है।
  • क्रॉस वेंटिलेशन प्रदान करें।
  • बिस्तर में सही फासला (800-900 वर्गफुट/100 डीएफएलएस) रखें और (2500 किलो कोंपल /100 डीएफएलएस) पर्याप्त रूप से खिलाएं।
केंचुली छोड़ने के दौरान देखभाल
  • जब 90% कीड़े केंचुली में प्रवेश कर जाएं तब खिलाना बंद कर दें।
  • बिस्तर को उचित रूप से सुखाने और वेंटिलेशन के लिए फैला दें।

नमी को कम रखने के लिए बिस्तर पर चूना पाउडर की धूल डालें।

चढ़ाना और कटाई
  • चढ़ाने के लिए पूरी तरह से पके कीड़ों को उठाएं।
  • रोटरी, प्लास्टिक के बंधन या बांस माउंटेजों जैसे उपयुक्त माउंटेज में चढ़ाएं।
  • प्रति वर्ग फुट क्षेत्र में 40-45 कीड़े चढ़ाएं।
  • रोगग्रस्त और मरे हुए कीड़ों को निकाल दें।
  • 27-28 डिग्री सेल्सियस का तापमान और 60-70% का आरएच बनाए रखें।
  • अतिरिक्त नमी को दूर करने के लिए वेंटिलेशन प्रदान करें.
  • तेज रोशनी से बचाव करें।
  • चढ़ाने के 5 वें दिन कोकूनों को समेटें।
  • कमजोर, दागदार और अनियमित आकार के कोकूनों (रेशम के कोयों) को निकाल दें।
पालन और व्यक्तिगत स्वच्छता
  • पालन घर में प्रवेश करने के पूर्व किसी विसंक्रामक (कीटाणुनाशक) से हाथ धो लें।
  • पालन में शामिल लोगों के अलावा अन्य व्यक्ति का प्रवेश रोकें।
  • 5-6 दिनों के अंतराल पर पालन घर के आसपास 5% उच्च स्तरीय ब्लीचिंग पाउडर छिड़कें।
  • रोगग्रस्त कीड़ों को एकत्र करें और (उन्हें जलाएं या दफनाएं) ठीक से निपटाएं।
  • बिस्तर साफ करने से पहले और बाद में 2% ब्लीचिंग पाउडर के घोल से पालन घर के फर्श को साफ करें।
  • जब लार्वा केंचुली से बाहर आते हैं तब लार्वा पर, बिस्तर कीटाणुनाशक का प्रयोग करें।
स्रोत:

केन्द्रीय रेशम उत्पादन अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान, मैसूर, कर्नाटक